Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

जीवन दर्शन

24. जीवन-दर्शन

गलियों के नुक्कड़ में , आँधी के छप्पर में ,
ऊसर की खेती में , मरुधर की रेती में ,
जीवन का दर्शन है ।

शहरी फुटपाथों में , बेघर अनाथों में,
सब्जी के ठेलों में , गॉव के मेलों में
जीवन का दर्शन है ।

बगिया के फूलों में , घंटे त्रिशूलों में,
रास्ते अनजान में , मस्ज़िद अज़ान में ,
जीवन का दर्शन है

नदियों में नालों में , यौवन के गालों में,
बारिश के पानी में, मौज़े तूफानी में,
जीवन का दर्शन है ।

शबरी के बेरों में , कूड़े के ढेरों में,
गाय और गोरू में , गरीब की जोरू में,
जीवन का दर्शन है ।

मुन्ने के पलने में , बहुओं के जलने में,
बूढ़े की पेंशन में , विधवा की धड़कन में,
जीवन का दर्शन है ।

गरीब की आह में , साहब की वाह में,
नदिया की थाह में , बरगद की छाँह में,
जीवन का दर्शन है ।

महलों और कारों में , बड़ी बड़ी बारों में,
मदिरा के प्यालों में, गटर और नालों में,
जीवन का दर्शन है ।

कूड़े के ढेरों में , शायर के शेरों में,
मदमाती सरिता में , कवियों की कविता में,
जीवन का दर्शन है ।
*******
प्रकाश चंद्र , लखनऊ
IRPS (Retd)

1 Like · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prakash Chandra
View all
You may also like:
शेरनी का डर
शेरनी का डर
Kumud Srivastava
■ मनुहार देश-हित में।
■ मनुहार देश-हित में।
*प्रणय प्रभात*
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
Dr. Man Mohan Krishna
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
लौट कर फिर से
लौट कर फिर से
Dr fauzia Naseem shad
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
कभी धूप तो कभी खुशियों की छांव होगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भरोसा
भरोसा
Paras Nath Jha
आसमान पर बादल छाए हैं
आसमान पर बादल छाए हैं
Neeraj Agarwal
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
गर्मी और नानी का आम का बाग़
गर्मी और नानी का आम का बाग़
कुमार
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
संकल्प
संकल्प
Davina Amar Thakral
बरसात
बरसात
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
Loading...