Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

जीवन जीते रहने के लिए है,

जीवन जीते रहने के लिए है,
रुकना नही है,
कभी थक हार के,
क्या रुकी है बयार कभी?
उसी तरह बहते रहें निर्मल,
स्वच्छ प्राण वायु सी

166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prof Neelam Sangwan
View all
You may also like:
प्यार
प्यार
Kanchan Khanna
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सैनिक
सैनिक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
😢😢
😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
2591.पूर्णिका
2591.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
जिंदगी बस एक सोच है।
जिंदगी बस एक सोच है।
Neeraj Agarwal
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
Loading...