Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।

जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।

1 Like · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
प्रेम की कहानी
प्रेम की कहानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
टूट गया हूं शीशे सा,
टूट गया हूं शीशे सा,
Umender kumar
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
नक़ली असली चेहरा
नक़ली असली चेहरा
Dr. Rajeev Jain
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
2780. *पूर्णिका*
2780. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
मित्रता दिवस पर विशेष
मित्रता दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*प्रणय प्रभात*
जीवन
जीवन
Monika Verma
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
Loading...