Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत

जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
पैदा करने वाली मा के आँचल से जीवन की सुरुआत होती है
पिता की अंगुली के सहारे रास्ते की सुरुआत होती है
भाई के साथ से पड़ोसियों की पहचान होती है
बहन के साथ से लडाई का अनुभव और मित्रता की पहचान होती हैं
दादा के प्यार से बाजार का रास्ते की सुरुआत होती हैं
दादी के सहारे मम्मी पापा से मार खाने से बचने के रास्ते होते है नाना मामा नानी मामी मौसी के साथ रह कर किसी से डरने की आदत छुट जाती है और सबसे निडर हो कर रहने की सुरुआत होती है
सबके साथ छुट जाने से जीवन का पहलू ही बदल जाता हैं
अपने बच्चों के साथ रह कर पत्नी के साथ रह कर अपने भी पराये हो जाते है दोस्तो के साथ रहने से दुख सुख बाटने की आदत हो जाती है
और जब सारे छुट जाते है तो अपने जीवन का अंत होता है और यह शरीर पंच तत्व मे विलीन हो जाता हैं
ऋतुराज वर्मा

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
Lokesh Sharma
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
Dr. Man Mohan Krishna
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)*
*करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
राज वीर शर्मा
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
Suryakant Dwivedi
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
समय
समय
Swami Ganganiya
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
****मैं इक निर्झरिणी****
****मैं इक निर्झरिणी****
Kavita Chouhan
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
प्रदर्शनकारी पराए हों तो लाठियों की। सर्दी में गर्मी का अहसा
*प्रणय प्रभात*
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
Loading...