Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2023 · 1 min read

जीवन की सांझ

चारों तरफ अंधेरा
खोया कहीं सबेरा।

पथ में बहुत हैं काँटे
खल तामसी सताते।
कोई लगे न अपना
जीवन है एक सपना।।

कैसे मैं राह पाऊं
डूबूँ या पार जाऊं।

जीवन की साँझ है क्या ?
रूख़सत का जाम है क्या ?
जोड़ा बहुत ये सत है –
चलता वही जो पथ है।।

गम का यहाँ बसेरा
तम छा गया घनेरा।

गीता बचन अमर है
जीवन ये बस समर है।
हारा न कोई जीता
सबकी यही डगर है।

नियंता ही बस चितेरा –
मत सोच तू अकेला।।

2 Likes · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Girish Chandra Agarwal
View all
You may also like:
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
Bidyadhar Mantry
पंचायती राज दिवस
पंचायती राज दिवस
Bodhisatva kastooriya
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
मरने के बाद।
मरने के बाद।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
आशिकी
आशिकी
साहिल
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
Rj Anand Prajapati
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
Ravi Prakash
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
"शब्दों का सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
भावनात्मक निर्भरता
भावनात्मक निर्भरता
Davina Amar Thakral
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2474.पूर्णिका
2474.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
*प्रणय प्रभात*
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारी दुआ।
तुम्हारी दुआ।
सत्य कुमार प्रेमी
Mushaakil musaddas saalim
Mushaakil musaddas saalim
sushil yadav
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...