Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

जीवन का सफर

जीवन का सफर अनोखा है,
ये एक खोज का रंगीन खेल है।
हर चरण में जीवन का संघर्ष है,
ये एक संघर्ष का संग्राम है।

जीवन का सफर बहुत खूबसूरत है,
ये एक संग्रह का नाटक है।
हर पल इसकी रूह में समाता है,
ये एक भावनाओं का समुद्र है।

जीवन का सफर जीत और हार का है,
ये एक खेल का मैदान है।
हर कदम पर जीत का एहसास है,
ये एक समर्थन का ज्ञान है।

जीवन का सफर अनंत और अविरत है,
ये एक अनुभव का संग्रह है।
हर महसूस की इसमें शक्ति है,
ये एक ऊर्जा का संचार है।

जीवन का सफर अनोखा है,
ये एक खोज का रंगीन खेल है।
हर चरण में जीवन का संघर्ष है,
ये एक संघर्ष का संग्राम है।

158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sidhartha Mishra
View all
You may also like:
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
"आया रे बुढ़ापा"
Dr Meenu Poonia
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
"आत्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
आईना ही बता पाए
आईना ही बता पाए
goutam shaw
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
लौट आओ तो सही
लौट आओ तो सही
मनोज कर्ण
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-51💐
💐अज्ञात के प्रति-51💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
आप देखिएगा...
आप देखिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
Loading...