Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

जीवन का मुस्कान

कभी ख्वाबों में
कभी ख्यालों में
पास आना
हँस हँस कर
गीत का गुनगुनाना
खुशियों का सौगात दिया।
जीवन का मुस्कान दिया।।

मुश्किलों के दौर में
तन्हाईयों के आलम में
पास आकर
चिल चिलाती धुप में
सदैव घनी छाँव दिया।
जीवन का मुस्कान दिया।।

सुप्तमन में उभारकर
मधुमय कामनाओं को
कंपित धड़कनों का
स्पर्श देकर
मौन ह्रदय को राग दिया।
जीवन का मुस्कान दिया।।

जब भी व्यथा में
अश्रु से भींगी पलकें
हौले से आकर
तपते ह्रदय पर
प्रीत का बौछार किया।
जीवन का मुस्कान दिया।।
*******

Language: Hindi
1 Like · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Awadhesh Kumar Singh
View all
You may also like:
विचार
विचार
आकांक्षा राय
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
सवर्ण
सवर्ण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
Shweta Soni
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
दर्द
दर्द
Shyam Sundar Subramanian
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
कोशिश है खुद से बेहतर बनने की
Ansh Srivastava
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Sakshi Tripathi
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...