Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

जीवन का मकसद क्या है?

जीवन का मकसद क्या है?
किसको इस बात की परवाह है,
अपनी ही चिंता मे डूबे है सब,
स्वार्थ सिद्धी ही एक कार्य है अब,
अपना उल्लू सीधा हो जाये,
व्यर्थ मे औरो के लिए परेशान आप ।

जीवन का मकसद क्या है?
अंधे के पीछे अंधा चलता जाये,
राह कैसा भी हो अपना भला हो जाये,
चिंतन किये बगैर भागा जाये,
औरो से आगे स्वयं आना चाहे
स्वार्थ परता के भाव हृदय मे उपज जाये।

जीवन का मकसद क्या है?
बढ़ते हुए के मार्ग मे बाधा बन जाओ,
अपनी जान बचा कर किसी अपने को जुझाओ,
सुख शांति को त्याग कर,
फिजूल अपने जीवन का समय नष्ट करे,
बिन मकसद के अमूल्य जीवन जिये जाए।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर ।

2 Likes · 443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
DrLakshman Jha Parimal
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
*
*" कोहरा"*
Shashi kala vyas
मुक्ति मिली सारंग से,
मुक्ति मिली सारंग से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
"भीषण बाढ़ की वजह"
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारे लिए हम नये साल में
तुम्हारे लिए हम नये साल में
gurudeenverma198
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
'अशांत' शेखर
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
नैन
नैन
TARAN VERMA
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
मेरी नज़्म, शायरी,  ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
मेरी नज़्म, शायरी, ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
Loading...