Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2022 · 1 min read

जीवन का आधार

जीवन का आधार
तेरा प्यार होगा ।
हम पर तुम्हारा
अधिकार होगा ।।
परिस्थितियां चाहें
कैसी भी आएं।
हर निर्णय तुम्हारा
स्वीकार होगा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
19 Likes · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
#दो_टूक
#दो_टूक
*Author प्रणय प्रभात*
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
DrLakshman Jha Parimal
"अगर हो वक़्त अच्छा तो सभी अपने हुआ करते
आर.एस. 'प्रीतम'
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**"श्रद्धा विश्वास रुपिणौ'"*
Shashi kala vyas
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
भारत का चाँद…
भारत का चाँद…
Anand Kumar
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*राजनीति में नारे 【हास्य-व्यंग्य】*
*राजनीति में नारे 【हास्य-व्यंग्य】*
Ravi Prakash
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
ऐसे साथ की जरूरत
ऐसे साथ की जरूरत
Vandna Thakur
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें.......
जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें.......
कवि दीपक बवेजा
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सितारे  आजकल  हमारे
सितारे आजकल हमारे
shabina. Naaz
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
Loading...