Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

जीवन का अहसास

भूख लिखूँ या प्यास लिखूँ।
जीवन का अहसास लिखूँ।।
अब अपने ही छलते हैं
बस सपने ही पलते हैं
मन के सूने आँगन में
दीप वफा के जलते हैं
पतझड बनते जीवन को
कैसे मैं मधुमास लिखूँ?
किस्से हैं कैसे कैसे
रिश्तों की क़ीमत पैसे
टूट पड़े हैं गिद्ध सभी
उतराया शव हो जैसे
हँसते चेहरों का सच
फीका रंग उदास लिखूँ।।
बिटिया की जलती होली
बेटे की लगती बोली
कहतीं बापू की आँखें
उजड़े क्यों सजकर डोली?
कल की बातों से पहले
परिचय में इतिहास लिखूँ।।
हर बातों की दो बातें
काले दिन उजली रातें
परछाईं बनकर छलती
कठपुतली सी सौगातें
बेबस लाचार पिता की
टूट गयी हर आस लिखूँ।।
भूख लिखूँ या प्यास लिखूँ।
जीवन का अहसास लिखूँ।।
?हेमन्त कुमार ‘कीर्ण’?

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 257 Views
You may also like:
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर...
Manisha Manjari
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
पक्षी
Sushil chauhan
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐💐परमार्थ: तथा प्रतिपरमार्थ:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
'अशांत' शेखर
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर...
DrLakshman Jha Parimal
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
इमोजी है तो सही यार...!
*प्रणय प्रभात*
त'अम्मुल(पशोपेश)
Shyam Sundar Subramanian
नदियों का दर्द
Anamika Singh
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी हो इंद्रधनुष सी
gurudeenverma198
बा हो केहू गावे वाला?
Shekhar Chandra Mitra
*"काँच की चूड़ियाँ"* *रक्षाबन्धन* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
Anis Shah
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
नोटबंदी 2016 के दौर में लिखी गई एक रचना
Ravi Prakash
समाज का दर्पण और मानव की सोच
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
नज़र से नज़र
Dr. Sunita Singh
दिल चाहता है...
Seema 'Tu hai na'
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
नव भारत
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...