Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून

जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जल पीकर फुटपाथ पे, चबा रहे नाख़ून
चबा रहे नाख़ून, ग़रीब मरा है भूखा
भगवन तेरा न्याय, नसीब मिला है सूखा
महावीर कविराय, प्रकट हों लक्ष्मी जी घर
माँ तुझसे उम्मीद, खिलाये रोटी जी भर
—महावीर उत्तरांचली

____________________
*हिन्दी कहावत ‘दो जून की रोटी’ का अभिप्राय: ‘दो वक्त की रोटी’ से है! किन्तु यहाँ हिन्दी कहावत में ‘जून’ का यह शब्द अवधी भाषा से ग्रहण किया गया है, जिसका अर्थ वक़्त से हैं। जगत में हर व्यक्ति की यह ख्वाहिश – इच्छा होती है कि उसे और उसके परिवार को हर वक़्त ‘2 जून की रोटी’ उपलब्ध हो।

1 Like · 2 Comments · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
मेरी खुशी हमेसा भटकती रही
Ranjeet kumar patre
ख़ुद रंग सा है यूं मिजाज़ मेरा,
ख़ुद रंग सा है यूं मिजाज़ मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
Ravi Prakash
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
बुढापे की लाठी
बुढापे की लाठी
Suryakant Dwivedi
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधुरे सपने, अधुरे रिश्ते, और अधुरी सी जिन्दगी।
अधुरे सपने, अधुरे रिश्ते, और अधुरी सी जिन्दगी।
Ashwini sharma
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
Rajendra Kushwaha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Chahat
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
■ मंगलमय हो अष्टमी
■ मंगलमय हो अष्टमी
*प्रणय प्रभात*
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
"घर घर की कहानी"
Yogendra Chaturwedi
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
Loading...