Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

जीने की

मुझसे इस ज़िंदगी की अदावत थी
इसलिए ।
जीने की ख़्वाहिशों में मुझे मैं भी
चाहिए था ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
बेगुनाही की सज़ा
बेगुनाही की सज़ा
Shekhar Chandra Mitra
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*Author प्रणय प्रभात*
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
AmanTv Editor In Chief
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-456💐
💐प्रेम कौतुक-456💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
प्रेम
प्रेम
Prakash Chandra
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
शोषण
शोषण
साहिल
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
*सबके लिए सबके हृदय में, प्रेम का शुभ गान दो【मुक्तक 】*
*सबके लिए सबके हृदय में, प्रेम का शुभ गान दो【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
सच है, दुनिया हंसती है
सच है, दुनिया हंसती है
Saraswati Bajpai
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
Loading...