Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

जीओ और जीने दो

तुम ज़हर मत घोलो हवाओं में!
अब दम घुटता इन फिज़ाओं में!!
हरी-भरी ये ख़ुबसूरत वादियां
बदल जाएं ना कहीं सहराओं में!!
#HatePolitic #Communalism
#Secularism #Peace #love
#live_and_let_live #शांति #प्रेम
#humanity #मानवता #Buddha

Language: Hindi
458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
"फर्क बहुत गहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
😊गर्व की बात😊
😊गर्व की बात😊
*Author प्रणय प्रभात*
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
शिक्षा
शिक्षा
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कुछ याद बन गये
कुछ याद बन गये
Dr fauzia Naseem shad
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
वरदान है बेटी💐
वरदान है बेटी💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
💐प्रेम कौतुक-262💐
💐प्रेम कौतुक-262💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
हटा 370 धारा
हटा 370 धारा
लक्ष्मी सिंह
Loading...