Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन

जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन करने की आदत डालने में ही भलाई है।

पारस नाथ झा

244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोस्ती क्या है
दोस्ती क्या है
VINOD CHAUHAN
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विनती
विनती
Kanchan Khanna
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
दिल से हमको
दिल से हमको
Dr fauzia Naseem shad
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
2972.*पूर्णिका*
2972.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
ये ज़िंदगी एक अजीब कहानी है !!
ये ज़िंदगी एक अजीब कहानी है !!
Rachana
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
*हिन्दी बिषय- घटना*
*हिन्दी बिषय- घटना*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सो रहा हूं
सो रहा हूं
Dr. Meenakshi Sharma
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
Ravi Prakash
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
Loading...