Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

★भारतीय किसान ★

जिसके होने से कई जीता हुआ महसूस करते हैं वो हस्ती किसान है। मृदा जल हल फसल जिसके पास हो वो हस्ती महान है । फिर ना जाने क्यों वह अपना जीवन हारा करते हैं। एक रस्सी और एक पेड़ में खुद के जिस्म को मारा करते हैं। खुद के जिस्म को मारने से महान नहीं बना करते किसान भारत के नादान नहीं बना करते। और तुम्हारे होने से खिल उठते हैं चेहरे कई तो खुद को मायूस नहीं किया करते ।। ★IPS KAMAL THAKUR★.

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
कितना तन्हा
कितना तन्हा
Dr fauzia Naseem shad
हम सनातन वाले हैं
हम सनातन वाले हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
चोर कौन
चोर कौन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
याद कब हमारी है
याद कब हमारी है
Shweta Soni
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*Colors Of Experience*
*Colors Of Experience*
Poonam Matia
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
"कितना कठिन प्रश्न है यह,
शेखर सिंह
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
जिसके पास क्रोध है,
जिसके पास क्रोध है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...