Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

जिम्मेदारियाॅं

जिम्मेदारियाॅं किसी आदमी से वो सब भी करा लेती है,जिसे करने के बारे में कभी सोचा भी नहीं होता है।

Paras Nath Jha

357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
** सावन चला आया **
** सावन चला आया **
surenderpal vaidya
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
बाखुदा ये जो अदाकारी है
बाखुदा ये जो अदाकारी है
Shweta Soni
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
God O God
God O God
VINOD CHAUHAN
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संतोष
संतोष
Manju Singh
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
नए सफर पर चलते है।
नए सफर पर चलते है।
Taj Mohammad
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
"मैं मजदूर हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...