Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं

जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
इम्तहानो में क्या सवाल सरल आते हैं

58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
पूर्वार्थ
"" *एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य* "" ( *वसुधैव कुटुंबकम्* )
सुनीलानंद महंत
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
चलो दूर चले
चलो दूर चले
Satish Srijan
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आस्था
आस्था
Adha Deshwal
Meri najar se khud ko
Meri najar se khud ko
Sakshi Tripathi
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"कामदा: जीवन की धारा" _____________.
Mukta Rashmi
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
gurudeenverma198
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
Loading...