Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी

जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी कभी अपने अस्तित्व की ओर अपनी निगाहें तक लाने में व्यर्थ हो जाते हैं,
इसी को शायद आईडिनटिटी क्राइसिस का झिंगोला पहनना कहते हैं।

1 Like · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
दोहा छंद
दोहा छंद
Yogmaya Sharma
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
■ एम है तो एम है।
■ एम है तो एम है।
*प्रणय प्रभात*
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
हमारा गुनाह सिर्फ यही है
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
Bimal Rajak
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
याद कितनी खूबसूरत होती हैं ना,ना लड़ती हैं ना झगड़ती हैं,
याद कितनी खूबसूरत होती हैं ना,ना लड़ती हैं ना झगड़ती हैं,
शेखर सिंह
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
कुछ लोग कहते हैं कि मुहब्बत बस एक तरफ़ से होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
सच समझने में चूका तंत्र सारा
सच समझने में चूका तंत्र सारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
कभी रहे पूजा योग्य जो,
कभी रहे पूजा योग्य जो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...