Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

जिन्दगी की शाम

बचपन साथ रखिएगा,जिन्दगी की शाम मे!
उम्र महसूस ही नही होगी,सफर के मुकाम मे!!
इसीलिए बचपन के शौक पाले हर काम मे!
रोज़ कसरत और दौडना ज़रुरी इस पैगाम मे’!!
मेरा मुस्तकिल कभी कोई ठिकाना कब रहा?
पर दोस्तो संग महफिल सजाता हू हर शाम मे!!
कोई न कोई हुनर गाना-बजाना साथ रखिए,
काम मे मशगूल रहिए ,सजाए महफिल शाम मे!!
समय चुटकी बजाते कट जाएगा पूजा-पाठ मे,
वैतरणी पार करने को मन लगा कृष्ण और राम मे!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं फेस-2 सिकंदरा,आगरा -282007
मो:9412443093

Language: Hindi
47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
चुनावी वादा
चुनावी वादा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
"प्रीत की डोर”
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमारे देश में
हमारे देश में
*Author प्रणय प्रभात*
2746. *पूर्णिका*
2746. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...