Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2023 · 1 min read

जिन्दगी कभी नाराज होती है,

जिन्दगी कभी नाराज होती है,
कभी सरताज होती है,
कभी जीना बताती है,
कभी मर मिटना सिखाती है,
अजब कशमकश सी कहानी है
तेरी ऐ जिन्दगी!
तू जिन्दगी को जिन्दगी
में हीं आजमाती है।

1 Like · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
"पता सही होता तो"
Dr. Kishan tandon kranti
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
मलाल आते हैं
मलाल आते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
#आज_का_आह्वान
#आज_का_आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
Munish Bhatia
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
शेखर सिंह
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
Shweta Soni
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
*माला फूलों की मधुर, फूलों का श्रंगार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
Loading...