Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

जिन्दगी ऐ जिन्दगी

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसी कयामत लाई है
दोस्तों के नाम की ढेरों शिकायत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी तेरा अलग ही फ़लसफा
ख़्वाब के ही दरमियाँ तू क्यों हकीकत लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी हर बार मै ही क्यों मरुँ
दुश्मनों की बस्तियों में क्यों शराफ़त लाई है।

जिन्दगी ऐ जिन्दगी कैसा सितम है ढा रही
मिल चुकी हमको सजा तू अब जमानत लाई है।

विवेक प्रजापति ‘विवेक’

510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*Author प्रणय प्रभात*
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
तुम जख्म देती हो; हम मरहम लगाते हैं
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ॐ
Prakash Chandra
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
"मुस्कान"
Dr. Kishan tandon kranti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
गाय
गाय
Vedha Singh
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
नदियां
नदियां
manjula chauhan
" पाती जो है प्रीत की "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
कुटुंब के नसीब
कुटुंब के नसीब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...