Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

जिद बापू की

नमन बापू !
नमन बापू !
आज हुआ था आपका
गमन बापू !
अपने जो दिया
हम हैं मगन बापू।

इतनी जल्दी भी क्या थी
तुम्हें जाने की जिद
और तुम चले गए ।
अगस्त से जनवरी ही आया था
और तुम चल दिए
स्वतंत्रता/ स्वतंत्रता/ सुराज/ स्वराज देकर भी
संविधान नहीं दे पाए
अपने सपनों का भारत न तो बना पाए
और न तो देख ही पाए

कितना मुश्किल है सत्य – पथ पर चलना
फिर भी तुम चले
कितना मुश्किल है अहिंसा के पथ पर चलना
फिर भी तुम चले
कितना मुश्किल है न्याय के पथ पर चलना
फिर भी तुम चले
अफ्रीका वासियों को इंसाफ दिलाया
चंपारण के नील्हों इंसाफ दिलाया ।

अंग्रेजों को भगाने की जिद थी
तुमने उसे भगा दिया ।
आजादी पाने की जिद थी
तुमने उसे पा लिया ।
पाक को रुपए देने की जिद थी
तुमने भारत से दिला दिया
तुम्हें जाने की जिद थी
और तुम रुके नहीं ।

आज का भारत वहीं पर नहीं है
जहां छोड़ गए थे ।
संविधान ने हमे भारत का नागरिक बना दिया है ।
आजादी का अमृत वर्ष मना लिया है
शताब्दी वर्ष का भी आगाज हो गया है ।

यदि पुनर्जन्म में विश्वास है
तो लौट आओ बापू !
देखो न
तुम्हारा भारत अब
सबके मन को भाता है
अधिकांश देश भारत की ओर देखते हैं ।

नमन है बापू !
नमन है बापू !
आपने जो हमे दिया
हम है मगन बापू !
*****************************************
@मौलिक रचना घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
पहले सा मौसम ना रहा
पहले सा मौसम ना रहा
Sushil chauhan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सेवा या भ्रष्टाचार
सेवा या भ्रष्टाचार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
“POLITICAL THINKING COULD BE ALSO A HOBBY”
DrLakshman Jha Parimal
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-512💐
💐प्रेम कौतुक-512💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
रिश्तों की मर्यादा
रिश्तों की मर्यादा
Rajni kapoor
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
#देख_लिया
#देख_लिया
*Author प्रणय प्रभात*
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Loading...