Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

#जिज्ञासा-

#जिज्ञासा-
■ मतलब क्या है इसका…?
【प्रणय प्रभात】
“खीर पकाई जतन से
चरख़ा दिया चलाय।
आया कुत्ता खा गया,
तू बैठी ढोल बजाय।।
ला पानी पिला…..।।”
दुम लगा यह दोहा बचपन में पढ़ा था, जिसका मतलब आज 55 की उम्र तक भी समझ से परे है। दोहे के चारों हिस्सों का तारतम्य भी कभी नहीं समझ आया। सवाल सामान्य अर्थ का नहीं, उस गूढ़ अर्थ का है जो इसे लिखने वाले के दिमाग़ में रहा होगा।।
क्या इसका मतलब “अंधा पीसे कुत्ता खाए” जैसी कहावत से मिलता-जुलता है? क्या इसी अटपटे दोहे के आधार पर “खाए गौरी का यार बलम तरसे” जैसे गीत का जन्म हुआ? जिस में सारा माल प्रेमी हड़प गया और बेचारे पति को पानी पी कर काम चलाना पड़ा। या फिर यह “अवसरवाद” से जुड़े कृत्यों पर कटाक्ष है?
आप में से किसी को पता हो तो मुझे भी बताएं। उदाहरण दे सकें तो और भी बढ़िया। जैसे कि हाल ही में घटित कोई दिलचस्प सा घटनाक्रम, जिसमें इस दोहे की भावना झलकी हो।
■प्रणय प्रभात■

320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
जय हो जनता राज की
जय हो जनता राज की
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*प्रणय प्रभात*
Tu Mainu pyaar de
Tu Mainu pyaar de
Swami Ganganiya
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
I.N.D.I.A
I.N.D.I.A
Sanjay ' शून्य'
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
रात
रात
sushil sarna
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Shyam Sundar Subramanian
Life
Life
Neelam Sharma
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"चक्रव्यूह"
Dr. Kishan tandon kranti
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
Bidyadhar Mantry
नेताजी का रक्तदान
नेताजी का रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
Loading...