Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

जिंदा है धर्म स्त्री से ही

जिंदा है धर्म स्त्री से ही
आदमी ने तो
मंदिर जाना ही छोड़ दिया !

253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
Phool gufran
3463🌷 *पूर्णिका* 🌷
3463🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"तोहफा"
Dr. Kishan tandon kranti
चिन्ता कब परिवार की,
चिन्ता कब परिवार की,
sushil sarna
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम्हारा प्यार मिले तो मैं यार जी लूंगा।
तुम्हारा प्यार मिले तो मैं यार जी लूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
"लोग करते वही हैं"
Ajit Kumar "Karn"
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
*तेरी मेरी कहानी*
*तेरी मेरी कहानी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
दुनिया से सीखा
दुनिया से सीखा
Surinder blackpen
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
अनिल "आदर्श"
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
शेखर सिंह
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*प्रणय प्रभात*
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
सूर्योदय
सूर्योदय
Madhu Shah
Loading...