Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2021 · 1 min read

जिंदगी

आहिस्ता चल ऐ जिंदगी
कई कर्ज चुकाना बाकी है
कुछ दर्द मिटाना बाकी है
कुछ फर्ज़ निभाना बाकी है ।।

रफ्तार में तेरे चलने से
कुछ रूठ गए कुछ छूट गए
रूठों को मनाना बाकी है
रोतों को हसाना बाकी है ।।

कुछ रिश्ते बनकर टूट गए
कुछ जुड़ते जुड़ते टूट गए
उन टूटे–छूटे रिश्तो के
जख्मों को मिटाना बाकी है ।।

हसरतें अभी अधूरी है
कुछ काम अभी भी जरूरी है
जीवन की उलझी पहेली को
पूरा सुलझाना बाकी है ।।

जब सांसो को थम जाना है
फिर क्या खोना और क्या पाना है
पर मन के जिद्दी बच्चे को
कुछ बात बताना बाकी है ।।

आहिस्ता चल ए जिंदगी
कई कर्ज चुकाना बाकी है
कुछ दर्द मिटाना बाकी है
कुछ फर्ज निभाना बाकी है ।।

®अभिषेक पाण्डेय अभि
☎️7071745415

51 Likes · 8 Comments · 963 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
The_dk_poetry
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#कड़े_क़दम
#कड़े_क़दम
*प्रणय प्रभात*
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
42...Mutdaarik musamman saalim
42...Mutdaarik musamman saalim
sushil yadav
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
प्रेरणा गीत
प्रेरणा गीत
Saraswati Bajpai
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दर्द लफ़ज़ों में
दर्द लफ़ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...