Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े

जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े रास्तों से होकर ना गुजरे l जिंदगी का मकसद जीवन की पूर्णता में निहित होता है ना कि खुद की आत्मा को कचोटने वाले कृत्य के साथ जीवन को सफ़ल बनाने का प्रयास करना l

अनिल कुमार गुप्ता अंजुम

1 Like · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Sakshi Tripathi
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
*नभ में सबसे उच्च तिरंगा, भारत का फहराऍंगे (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
कवि दीपक बवेजा
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3163.*पूर्णिका*
3163.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
गरीब की आरजू
गरीब की आरजू
Neeraj Agarwal
शुक्रिया जिंदगी!
शुक्रिया जिंदगी!
Madhavi Srivastava
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
क्या है नारी?
क्या है नारी?
Manu Vashistha
"अधूरी कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...