Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2023 · 1 min read

जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।

जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
बस एक सोच और समझ हैं।

168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
■ यादों का झरोखा...
■ यादों का झरोखा...
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
हे नाथ कहो
हे नाथ कहो
Dr.Pratibha Prakash
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
*माता दाता सिद्धि की, सौ-सौ तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*माता दाता सिद्धि की, सौ-सौ तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर एकपल तेरी दया से माँ
हर एकपल तेरी दया से माँ
Basant Bhagawan Roy
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिव मिल शिव बन जाता
शिव मिल शिव बन जाता
Satish Srijan
ठहराव नहीं अच्छा
ठहराव नहीं अच्छा
Dr. Meenakshi Sharma
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
निष्कर्ष
निष्कर्ष
Dr. Kishan tandon kranti
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...