Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*

जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)
——————————– ————
( 1 )
जिंदगी के युद्ध में ,मत हार जाना चाहिए
संकटों में दाँव को ,हर आजमाना चाहिए
( 2 )
रूठते हैं सिर्फ अपने ,बात पर बे – बात पर
रूठ जाएँ यदि स्वजन ,उनको मनाना चाहिए
( 3 )
भूलना एहसान मत ,तुम पर किसी ने यदि किया
हर समय हर साँस में ,वह याद आना चाहिए
( 4 )
हो गए हैं जो रिटायर ,मौत की आहट सुनें
वस्तुएँ अंतिम सफर की ,अब जुटाना चाहिए
( 5 )
आज का परिदृश्य जो है ,कल बदल वह जाएगा
सृष्टि के इस सत्य को ,मन में बिठाना चाहिए
———————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3086.*पूर्णिका*
3086.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
*** मुफ़लिसी ***
*** मुफ़लिसी ***
Chunnu Lal Gupta
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
*नारी है अर्धांगिनी, नारी मातृ-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अर्धांगिनी, नारी मातृ-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
Bhargav Jha
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
Loading...