Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

जिंदगी के उस मोड़ पर

कवि:- शिवदत्त श्रोत्रिय

जिंदगी के उस मोड़ पर(यह कविता एक प्रेमी और प्रेमिका के विचारो की अभिव्यक्ति करती है जो आज एक दूसरे से बुढ़ापे मे मिलते है ३० साल के लंबे अरसे बाद)

जिंदगी के उस मोड़ पर आकर मिली हो तुम
की अब मिल भी जाओ तो मिलने का गम होगा|

माना मेरा जीवन एक प्यार का सागर
कितना भी निकालो कहा इससे कुछ कम होगा||

चाँदनी सी जो अब उगने लगी है बालो मे
माना ये उम्र तुम पर अब और भी अच्छी लगती है|

अब जो तोड़ा सा तुतलाने लगी हो बोलने मे
छोटे बच्चे सी ज़ुबान कितनी सच्ची लगती है|

सलवटें जो अब पढ़ने लगी है गालो पर तुम्हारे
लगता है कि जैसे रास्ता बदला है किसी नदी ने ||

जो हर कदम पर रुक-२ कर सभलने लगी हो
सोचती तो होगी कि सभालने आ जाऊं कही मे |

तुम्हारी नज़र भी अब कुछ कमजोर हो गयी है
जैसे कि मेरा प्यार तुम्हे दिखा ही नही |

मिलने की चाह थी मुझे जो अब तक चला हूँ
विपदाए लाखो आई पर देखो रुका ही नही ||

पर फिर भी ……

जिंदगी के उस मोड़ पर आकर मिली हो तुम
की अब मिल भी जाओ तो मिलने का गम होगा|

Language: Hindi
2 Comments · 1322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खूबसूरत बुढ़ापा
खूबसूरत बुढ़ापा
Surinder blackpen
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
स्वागत है  इस नूतन का  यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
'सरदार' पटेल
'सरदार' पटेल
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
इक पखवारा फिर बीतेगा
इक पखवारा फिर बीतेगा
Shweta Soni
तुम्हारी दुआ।
तुम्हारी दुआ।
सत्य कुमार प्रेमी
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विवशता
विवशता
आशा शैली
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
2731.*पूर्णिका*
2731.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...