Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

*जिंदगी के आकलन की, जब हुई शुरुआत थी (हिंदी गजल/ गीतिका)*

जिंदगी के आकलन की, जब हुई शुरुआत थी (हिंदी गजल/ गीतिका)
_________________________
1
जिंदगी के आकलन की, जब हुई शुरुआत थी
बस तभी देखा कि, घिर आई ॶॅंधेरी रात थी
2
ढल गया संपूर्ण जीवन, कुछ घटाते-जोड़ते
यह समझ आया न किंचित, जीत थी या मात थी
3
देर तक अनबन चली, जिनसे बहुत गहरी मगर
ध्यान अब किसको कहॉं, अनबन की वह क्या बात थी
4
प्रश्न कुछ उलझे हुए, उलझे ही जीवन-भर रहे
एक सीमा तक हमारी, बुद्धि की औकात थी
5
जिंदगी किसकी बताओ, एकरस होकर चली
कम-अधिक सबके लिए, यह एक झंझावात थी
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीने के प्रभु जी हमें, दो पूरे शत वर्ष (कुंडलिया)
जीने के प्रभु जी हमें, दो पूरे शत वर्ष (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हादसों का बस
हादसों का बस
Dr fauzia Naseem shad
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
Loading...