Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

जिंदगी की रेस

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

जिंदगी को रेस बनाकर हम कहाँ दौड़ते जा रहे ?
कहाँ जाना ?क्या पाना ? हम नहीं समझ पा रहे,
अंधी दौड़ प्रतियोगिता में बस भागते हुए जा रहे ,
इंसानियत से दूर आग के दरिया में समाते जा रहे I

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

“राज” एक दिन तुझे भी इस “ जहाँ ” को छोड़कर है जाना,
प्यारी जिंदगी को “दुनिया की रेस” बनाकर दौड़ मत लगाना,
मुट्ठी बांधकर आया था दुनिया में, हाथ फैलाकर तुझे है जाना ,
“ इंसानियत का दामन” थाम ले,तुझे “प्रभु” की नगरी है जाना I

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

देशराज “राज”

Language: Hindi
2 Likes · 1606 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
2999.*पूर्णिका*
2999.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-453💐
💐प्रेम कौतुक-453💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
Manoj Mahato
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
गीत
गीत
Pankaj Bindas
■ सीधी-सपाट...
■ सीधी-सपाट...
*Author प्रणय प्रभात*
* बिछोना अंत में बनकर, चिता सब को सुलाती है 【मुक्तक 】*
* बिछोना अंत में बनकर, चिता सब को सुलाती है 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
"मेरी नयी स्कूटी"
Dr Meenu Poonia
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
Ram Krishan Rastogi
"मैं न चाहता हार बनू मैं
Shubham Pandey (S P)
शिकवा ,गिला
शिकवा ,गिला
Dr fauzia Naseem shad
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...