Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

जिंदगी का मुसाफ़िर

मुसाफ़िर हूँ,
जिंदगी का
और जिंदगी के सफर का,
रास्ते कुछ टेढ़े है कुछ सीधे,
कुछ उलझे हुए तो कुछ बिखरे हुए भी,
बहुत तय कर लिए अभी बहुत तय करना बाकी है,
मंजिल एक मगर लक्ष्य अनेक है,
कोई साथ नहीं लेकर जाता,
मुझे भी नहीं चाहिए कुछ भी,
फकीर तो हुंगा ही,
मगर जीत मेरे साथ होगी ही,
मेरी चेतना में मेरी रूह मैं…..

ये धरती गोल है,
मगर मैं इसे किनारों से नाप लूंगा..
जहाँ ऊंचाई है,
मैं कदम वहाँ भी रख लूंगा,
और खाई एवं घाटियों में,
आराम की सांस लूंगा,
जो हरा भरा है,
वह मेरा है,
जो धूसर सूखा है,
वह भी मेरा,
जो नापाक पाक है,
वह भी मेरा है,
यहां सारा जहां मेरा है,
मैं इसे ऐसे ही नाप लूंगा…
मुसाफ़िर हूँ,
चल रहा हूँ,
ऐसे ही चलता रहूंगा…

प्रशांत सोलंकी
नई दिल्ली-07.

Language: Hindi
2 Likes · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-127💐
💐अज्ञात के प्रति-127💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
राम का राज्याभिषेक
राम का राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
कोशिश
कोशिश
Dr fauzia Naseem shad
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
#कैसी_कही
#कैसी_कही
*Author प्रणय प्रभात*
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
Loading...