Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2018 · 1 min read

जिंदगी एक ख़्वाब सी

जिंदगी एक ख़्वाब सी,
झिलमिल सितारों रात सी,
टूटती बेबस नींद यहां,
बदलते दिनरात सी। जिंदगी….
कड़कती है बिजलियां,
खाली भरती बदलियां,
खिलते झरते पुष्प यहां,
बदलते मौसम चार सी। जिंदगी….
कहीं तमगा जीत लिया,
कहीं मनका हार लिया,
भागम भाग बना लिया,
बदलते हर साल सी। जिंदगी….
पहाड़ से चढ़ना यहां,
नदियों से बहना यहां,
गिरना सम्बलना यहां,
उम्र बदलते पड़ाव सी। जिंदगी….
कुछ कितना ही पा लिया,
क्या सारा ही जान लिया,
कोरे कागज उकेर लिया,
नेह की बरसात सी। जिंदगी….
(रचनाकार-डॉ. शिव “लहरी”)

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 840 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
विनम्रता, साधुता दयालुता  सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
विनम्रता, साधुता दयालुता सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
Rj Anand Prajapati
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
💐 Prodigy Love-10💐
💐 Prodigy Love-10💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
"हंस"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
एक सवाल ज़िंदगी है
एक सवाल ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
★जब वो रूठ कर हमसे कतराने लगे★
★जब वो रूठ कर हमसे कतराने लगे★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
भिनसार हो गया
भिनसार हो गया
Satish Srijan
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
Loading...