Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 2 min read

जिंदगी एक सफ़र अपनी

जिंदगी एक सफ़र अपनी

🌻🌺🏞️🌷🧑‍🤝‍🧑👭👪

शान्त दिमाग शीतल वाणी
कड़क दिमाग कड़की वाणी

चल गई तो चांद तक
नहीं चले तो शाम तक

चलती नहीं दुनिया सारी
रिश्तों के ढ़लान और सड़ान से

दौड़ती है हमेशा ज़िन्दगी
आत्मीय भावों की उड़ान से

उड़न परी सी जीवन जग मे
संभलो और संभालो पर को

पर की छतरी बना बचों
और बचाओं जग संसार को

चलना उड़ना जीवों की सफ़र
प्रेरक बन आगे बढ़ाओ जीवन

जिंदगी एक सफ़र अपनी
इसको कभी भूलो न भुलाओ

जीवन जीते जीवित प्राणी
पर मानुष जीवन औरों से

बेहतर अलग ठिकाना जो
जीओ और जीने दो जग को

अपनी ही जीवन जीना क्या
औरों को जीवन देता जो

कर्म पथ जीवन की सफ़र में
साथ चलना ही एक सफ़र है

उतार चढ़ाव जीवन की गति
पर कष्ट कांटो पर चलना ही

जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी जीवन मूल्य सिखाती

सीख लिया तो मालों माल
नहीं सीखा तो कालों की गाल

जीवन एक सफ़र अपनी
कांटों में खिलते पुष्प रंगीले

कीचड़ में उगते कमल प्र सून
पंखुड़ियों के चीर फाड़ सड़न तन

गम विहीन खुशी सज शोभा देते
कहीं बनते बालों की गजरा

दाम्पत्य मिलन की वरमाला
कहीं देवी देवों की माला

पूजा पाठ साधना आराधना
लड़ी पिरोई पूजा की थाली

फूलों की जिन्दगी एक सफ़र
प्रसून जीवन जीता गरिमा से

क्योंकि जीवन एक सफ़र अपनी
सफ़र जिन्दगी मुश्किल नही

जब धर्म कर्म चरित्र सबल हो
सफ़र पग पग ठोकर देता

पर ठोकरों की नयनी सीख से
आगे सफल सफ़र पूरा करना

वही जिंदगी की पूरी एक सफ़र
क्योंकि जिंदगी एक सफ़र अपनी

🌻🌻🌻🌻👪🌻🌻🌻🌻

तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
4 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
2444.पूर्णिका
2444.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गीत
गीत
Shiva Awasthi
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
" काले सफेद की कहानी "
Dr Meenu Poonia
धुनी रमाई है तेरे नाम की
धुनी रमाई है तेरे नाम की
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
"तोड़िए हद की दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
DrLakshman Jha Parimal
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
मोबाइल है हाथ में,
मोबाइल है हाथ में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
हाइकु
हाइकु
Prakash Chandra
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अच्छे किरदार की
अच्छे किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
Loading...