Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

जिंदगी आंदोलन ही तो है

जिंदगी आंदोलन ही तो है, साथ इसका भी देना पड़ेगा।
देखकर कांटें मुकुरे क्यों हम, रास्ता यह भी चुनना पड़ेगा।।
जिंदगी आंदोलन ही तो है——————-।।

हद होती है हर बात की, हम कब तक सहे ये सितम।
या तो तुम ये जुल्म रोक दो, वरना हम भी नहीं है कम।।
जिंदगी एक जंग भी तो है, जंग हमको यह जीतना पड़ेगा।
जिंदगी आंदोलन ही तो है——————–।।

देखकर वादें हमने तुम्हारे, यह इरादा हमने किया।
ख्वाब सच्चे नजर आये हमको, साथ देने का वादा किया।।
पर्दे के पीछे के खेल को, हमको भी अब समझना पड़ेगा।
जिंदगी आंदोलन ही तो है——————-।।

वह मोहब्बत हमारी है, आप बैठे हो जिस तख्त पर।
आप देंगे धोखा इस तरहां, हमको लाकर ऐसे सड़क पर।।
जिंदगी एक सड़क ही तो है, इस राह पे भी चलना पड़ेगा।
जिंदगी आंदोलन ही तो है———————।।

दम तुझमें है वह सब लगा ले, अपनी लश्कर भी अब तू बुला ले।
गर है हिम्मत,दिखा रोक हमको, वरना हाथों में चुड़ी पहन लें।।
जिंदगी जी आजाद है, हक हमको यह छीनना पड़ेगा।
जिंदगी आंदोलन ही तो है——————–।।

साहित्यकार एवं शिक्षक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
Ranjeet kumar patre
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
हँसी!
हँसी!
कविता झा ‘गीत’
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
Dushyant Kumar Patel
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
VINOD CHAUHAN
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
रात
रात
SHAMA PARVEEN
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
वाह वाह....मिल गई
वाह वाह....मिल गई
Suryakant Dwivedi
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...