Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

जान के दुश्मन

जान के दुश्मन मन में रहकर पलते हैं
मेरे दीये तेरी यादों से जलते हैं

दोस्त जिन्हें इल्म मैं तेरा आशिक हूं
तेरे नाम की देके दुहाई छलते है

अपने सपनों की दुनिया में मस्त रहो
ज्यों चंदा के संग संग तारे चलते हैं

इश्क इबादत समझ के तुमको चाहा है
उनमें से हम नहीं हाथ जो मलते हैं

सच तो यह है जब से तुम को पाया है
बड़ी शान से घर से विजय निकलते हैं

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
2565.पूर्णिका
2565.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
नेताजी का रक्तदान
नेताजी का रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
■ सुरीला संस्मरण
■ सुरीला संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...