Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2022 · 1 min read

जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं

कौन जानता है लोग क्या क्या छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस………….
जिंदगी सफर है हर आदमी इस सफर पे है
सांस थम जाए जिनकी कारवाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस…………..
दौर चलते हैं महफिलों में शमाँ जलने तक
परवाने जल जाते हैं और शमाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस…………..
प्यार मोहब्बत अपनापन रखिएगा दिल में
बस यही रह जाता है जो इंसाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस…………..
कमाते रहते हैं”विनोद”जो दिन-रात दौलत
कुछ नहीं ले जाते हैं सब यहाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस…………..

3 Likes · 2 Comments · 407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
*हनुमान (कुंडलिया)*
*हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
खामोश रहना ही जिंदगी के
खामोश रहना ही जिंदगी के
ओनिका सेतिया 'अनु '
राग द्वेश से दूर हों तन - मन रहे विशुद्ध।
राग द्वेश से दूर हों तन - मन रहे विशुद्ध।
सत्य कुमार प्रेमी
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
21वीं सदी के सपने (पुरस्कृत निबंध) / मुसाफिर बैठा
21वीं सदी के सपने (पुरस्कृत निबंध) / मुसाफिर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🥰🥰🥰
🥰🥰🥰
शेखर सिंह
Loading...