Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

*जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)*

जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)
_______________________
जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान
मंजिल सबकी एक है, चिता भस्म शमशान
चिता भस्म शमशान, सभी को बूढ़ा होना
तरुणाई को त्याग, देह निर्बल को ढोना
कहते रवि कविराय, दिवस दो जन सब पाते
दिखलाकर पुरुषार्थ, पटल से वापस जाते
—————————————
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
*पर्यावरण दिवस * *
*पर्यावरण दिवस * *
Dr Mukesh 'Aseemit'
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Agarwal
हिन्दी ग़ज़ल
हिन्दी ग़ज़ल " जुस्तजू"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
प्यासा के कुंडलियां (विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा')
प्यासा के कुंडलियां (विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा')
Vijay kumar Pandey
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
2603.पूर्णिका
2603.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
Dr fauzia Naseem shad
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*प्रणय प्रभात*
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
#उलझन
#उलझन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मैं तुझे खुदा कर दूं।
मैं तुझे खुदा कर दूं।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...