Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*

जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)
_________________________
जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल
काकरोच चलने लगा, मक्खी मालामाल
मक्खी मालामाल, लगा मच्छर भी गाने
छिपकलियॉं मुॅंह फाड़, शक्ल को लगीं दिखाने
कहते रवि कविराय, दिखा चूहा मुस्काता
जग में भागम-भाग, शीत जब देखा जाता
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
******** कुछ दो कदम तुम भी बढ़ो *********
******** कुछ दो कदम तुम भी बढ़ो *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
3321.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3321.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
"जूते"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
Ranjeet kumar patre
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लिख देती है कवि की कलम
लिख देती है कवि की कलम
Seema gupta,Alwar
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बूढ़ी माँ .....
बूढ़ी माँ .....
sushil sarna
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
■ आज का शेर अपने यक़ीन के नाम।
■ आज का शेर अपने यक़ीन के नाम।
*प्रणय प्रभात*
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
पुण्य स्मरण: 18 जून 2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो
पुण्य स्मरण: 18 जून 2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो
Ravi Prakash
दोहा .....
दोहा .....
Neelofar Khan
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
Loading...