Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 29, 2017 · 1 min read

जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए

जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए ,जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
मानव मन के मल को धोने वाला पावन ज्ञान चाहिए


गोदी में भूखा रोता है भारत माँ का अंश विकल है।
दीन-विवश -बलहीन बंधुओं पर भारी शोषण औ छल है।
गली-राजपथ -चौराहों पर लक्ष्यहीन नर भ्रमित चित्त-सा ।
कैसे बोलें राष्ट्र सबल, जब चेतहीन मदकंस प्रबल है ।
मार भगा दे जो दुर्गुणमय तिमिर दीप-सा ध्यान चाहिए।
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए,जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए।


सूर्पणखामय बृहद् विश्व से लक्ष्मण का स्वरूप ओझल है ।
काले कागरुपमय हिरदय की वाणी में भी कोयल है।
इस युग की इन परिभाषाओं को बदलेगा कौन सोच लो?
स्वयं जागकर बढो, बिज्ञता बिन सारा जीवन निष्फल है ।
सुरभित जीवन हेतु चेत बाणों का अब संधान चाहिए ।
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए, जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए


जीवन लेकर आए हो तो मुक्ति हेतु, ऋषिज्ञान धारिए।
बंधन- अवनति -चक्रव्यूह के तोड़ हेतु गुरुद्वार झाड़िए ।
भारत वर्ष प्रेम- संस्कृति का चेतनमय आनंदरूप धन।
इसीलिए प्रेमी किरीट बन,राष्ट्र शीष को अब निहारिए।
जागो प्यारे, अब स्वदेश को, द्वंद नहीं,मुस्कान चाहिए।
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए, जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
…………………………………………………………….

●उक्त रचना को मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

पं बृजेश कुमार नायक
🙏🙏

2 Likes · 6 Comments · 1344 Views
You may also like:
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्यार करके।
Taj Mohammad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
"अशांत" शेखर
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
Loading...