Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

जागो रे बीएलओ

(शेर)- मत रहो बनकर कोल्हू का बैल, अब तो तुम बीएलओ।
तुम पर जुल्मो- शोषण के खिलाफ, करो शुरू जंग बीएलओ।।
डरो मत अपना पसीना और लहू बहाने में, अन्याय के खिलाफ तुम।
जुल्मों के खिलाफ बजाकर बिगुल, हुंकार भरो तुम बीएलओ।।
———————————————————
जागो रे जागो,जागो, जागो रे बीएलओ।
जैसे कोटा चुरू के, जागे हैं बीएलओ।।
जागो रे जागो,जागो ——————–।।

शोषण है तुम्हारा, संघर्ष तुमको ही करना है।
जुल्म हुए हैं तुम पर, तुमको ही लड़ना है।।
करो जंग शुरू अब तो, तुम भी बीएलओ।
जागो रे जागो, जागो—————-।।

पसीना तुम्हारे लिए, तुम्हें ही बहाना है।
किसी की दया पर निर्भर, तुम्हें नहीं रहना है।।
राजनीति मुद्दा हो तुम, गैरों के लिए बीएलओ।
जागो रे जागो, जागो—————-।।

पाने को न्याय, झिझक और डर छोड़िये।
जुल्मो-शोषण के विरुद्ध, बेखौफ बोलिये।।
अपमान के खिलाफ, भरो हुंकार बीएलओ।
जागो रे जागो,जागो—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
*शिवोहम्*
*शिवोहम्* "" ( *ॐ नमः शिवायः* )
सुनीलानंद महंत
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
manjula chauhan
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
यात्रा ब्लॉग
यात्रा ब्लॉग
Mukesh Kumar Rishi Verma
राम मंदिर
राम मंदिर
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
~
~"मैं श्रेष्ठ हूँ"~ यह आत्मविश्वास है... और
Radhakishan R. Mundhra
Loading...