Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

जागृति

दुनिया देखने वाले क्या तुमने कभी खुद के अंदर झांक कर देखा है ?
अपने अंदर धधकती दावानल सी क्रोध , द्वेष , क्लेश की अग्नि को कभी पहचाना है ?

अंतरात्मा में उमड़ते घुमड़ते फिर कुंठाग्रस्त् होते स्वरों को कभी जाना है ?
ह्रदय में स्पंदित प्रेम , दया , सद्भाव एवं समर्पण भावों को कभी अनुभव किया है ?

मनस में छाए अहं , स्वार्थ , द्वेष , घृणा एवं तिरस्कार भावों का कभी त्याग किया है ?

जीवन भर उपदेशक बने लगे रहे ज्ञान बांटते !
कभी कुछ पल अपने अंतःकरण में भी झांक लेते !

जिस ईश्वर को तुम हो मानते !
जिसे बाहरी दुनिया में तुम हो ढूंढते फिरते !
वह तुम्हारे ही अंदर विद्यमान क्या ये नहीं जानते ?

प्रथम त्याग सर्वस्व जागृत करो अपने अंतःकरण में आत्मज्ञान !
होगी अनुभूति शांति और संतोष की , पाओगे तब तुम अपने ही अंतस्थ में भगवान !

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
Pravesh Shinde
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Gatha ek naari ki
Gatha ek naari ki
Sonia Yadav
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*डॉक्टर चंद्रप्रकाश सक्सेना कुमुद जी*
*डॉक्टर चंद्रप्रकाश सक्सेना कुमुद जी*
Ravi Prakash
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
सुनों....
सुनों....
Aarti sirsat
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
Loading...