Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 19, 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी

तरह-तरह के रंग बदलती है ज़िन्दगी
कभी तितली तो कभी गिरगिट लगती है ज़िन्दगी!

3 Comments · 408 Views
You may also like:
बहुमत
मनोज कर्ण
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
महँगाई
आकाश महेशपुरी
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
पंचशील गीत
Buddha Prakash
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Aruna Dogra Sharma
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...