Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 1 min read

ज़िन्दगी

एक कूप में
जैसे फँसी हो ज़िन्दगी;
आधी-अधूरी-चौथाई ज़िन्दगी;
टुकड़े-टुकड़े बिखरकर
फैली हुई ज़िन्दगी।
समेटकर
सहेजने के प्रयास में
कैकेयी के कोप-भवन सी
और बिफरती हुई ज़िन्दगी;
संवार कर जोड़ने के उधम में
सब कुछ खोकर
शकुंतला के अभिशाप सी ज़िन्दगी।
अपनेपन के अहसास से
सागर सी भरी हुई ज़िन्दगी;
फिर भी,
अन्तरिक्ष के विस्तार सी
रिक्त एकाकी जिंदगी।
दूर रहकर अपनों से
कुछ ऐसी ही
हो गई हैं ज़िन्दगी।
अश्रुओं की तरलता से
चमकती हुई आँखों सी
हंस उठती है ज़िन्दगी;
फिर भी किरकिरी से
दुखती है ज़िन्दगी।
कैसे जिए ज़िन्दगी हर क्षण
जबकि हर-पल
मिट रही हो ज़िन्दगी।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
7 Likes · 1 Comment · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
2704.*पूर्णिका*
2704.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मतदान
मतदान
Sanjay ' शून्य'
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
गुजरा कल हर पल करे,
गुजरा कल हर पल करे,
sushil sarna
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
स्वयं को सुधारें
स्वयं को सुधारें
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
मधुमाश
मधुमाश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
Dr MusafiR BaithA
माँ
माँ
Arvina
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...