Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

ज़िक्र तेरा लबों पे क्या आया

ज़िक्र तेरा लबों पे क्या आया ।
चैन दिल को, फिर नहीं आया ।।

खुद से बिछड़े न हम मिले खुद से ।
लौट कर वक़्त, फिर नहीं आया ।।

दर्द इतना अज़ीज़ था दिल को ।
अश्क़ आंखों में, फिर नहीं आया ।।

आज भी ढूंढती नज़र उसको ।
लौट कर जो, फिर नहीं आया ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
8 Likes · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
■एक टिकट : सौ निकट■
■एक टिकट : सौ निकट■
*Author प्रणय प्रभात*
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
💐प्रेम कौतुक-256💐
💐प्रेम कौतुक-256💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
श्याम सिंह बिष्ट
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
Harminder Kaur
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
Loading...