Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

ज़िंदगी की ज़रूरत में

दिखते नहीं तुम को जो वो ज़ख्म भी ताज़े हैं ।
ज़िन्दगी की ज़रूरत में जीने के तकाज़े हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
12 Likes · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/47.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*Colors Of Experience*
*Colors Of Experience*
Poonam Matia
वनिता
वनिता
Satish Srijan
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
Sonam Puneet Dubey
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
पानी का संकट
पानी का संकट
Seema gupta,Alwar
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
शेखर सिंह
कठिन परीक्षा
कठिन परीक्षा
surenderpal vaidya
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपने
अपने
Adha Deshwal
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...