Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-357💐

ज़िंदगी की गाड़ी है,साँसों का तेल है,
ख़्वाबों की दुनिया है,कर्मों की रेल है,
सब बैठे हुए हैं,अपने-अपने डिब्बे में,
ख़ुश हैं वे,जिनमें दिल से दिल का मेल है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विद्या:कविता
विद्या:कविता
rekha mohan
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
हम अरबी-फारसी के प्रचलित शब्दों को बिना नुक्ता लगाए प्रयोग क
हम अरबी-फारसी के प्रचलित शब्दों को बिना नुक्ता लगाए प्रयोग क
Ravi Prakash
2256.
2256.
Dr.Khedu Bharti
रण
रण
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
गंवारा ना होगा हमें।
गंवारा ना होगा हमें।
Taj Mohammad
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
कवि दीपक बवेजा
मिल ही जाते हैं
मिल ही जाते हैं
Surinder blackpen
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
Subhash Singhai
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
जहां तक रास्ता दिख रहा है वहां तक पहुंचो तो सही आगे का रास्त
dks.lhp
रेणुका और जमदग्नि घर,
रेणुका और जमदग्नि घर,
Satish Srijan
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया को बचाइए
दुनिया को बचाइए
Shekhar Chandra Mitra
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
Taran Verma
खुर्पेची
खुर्पेची
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ बोलती तस्वीर
■ बोलती तस्वीर
*Author प्रणय प्रभात*
दीपावली 🎇🪔❤️
दीपावली 🎇🪔❤️
Skanda Joshi
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
💐अज्ञात के प्रति-153💐
💐अज्ञात के प्रति-153💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...