Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-357💐

ज़िंदगी की गाड़ी है,साँसों का तेल है,
ख़्वाबों की दुनिया है,कर्मों की रेल है,
सब बैठे हुए हैं,अपने-अपने डिब्बे में,
ख़ुश हैं वे,जिनमें दिल से दिल का मेल है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
मातृभूमि
मातृभूमि
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
*गुरूर जो तोड़े बानगी अजब गजब शय है*
sudhir kumar
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
2915.*पूर्णिका*
2915.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Pain of separation
Pain of separation
Bidyadhar Mantry
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
Vijay kumar Pandey
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
પૃથ્વી
પૃથ્વી
Otteri Selvakumar
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
sushil yadav
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
नादानी
नादानी
Shaily
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
Loading...