Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

ज़ब्त को जब भी

ज़ब्त को जब भी आज़माया है ।
उतना बेचैन ख़ुद को पाया है ।।
खो दिया है उसे हक़ीक़त में ।
बस ख़्यालों में जिसको पाया है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
9 Likes · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
रक्त को उबाल दो
रक्त को उबाल दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai  zindagi  kam hi  sahi.
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai zindagi kam hi sahi.
Rekha Rajput
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
तक्षशिला विश्वविद्यालय के एल्युमिनाई
तक्षशिला विश्वविद्यालय के एल्युमिनाई
Shivkumar Bilagrami
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
"पनाहों में"
Dr. Kishan tandon kranti
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
Ravi Prakash
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
2477.पूर्णिका
2477.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज की प्रस्तुति: भाग 3
आज की प्रस्तुति: भाग 3
Rajeev Dutta
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...