Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

ज़ख़्म आहिस्ता दुखाकर चल दिये

ज़ख़्म आहिस्ता दुखाकर चल दिये
आप जो ये मुस्कुराकर चल दिये
—————————————–
ग़ज़ल,
क़ाफ़िया-आकर, रदीफ़-चल दिये
वज़्न- 2122 2122 212
(फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन)
—————————————–
ज़ख़्म आहिस्ता दुखाकर चल दिये
आप जो ये मुस्कुराकर चल दिये
—————————————–
लीडरान-ए-क़ौम ने आवाज़ दी
और हम परचम उठाकर चल दिये
—————————————–
आपसे उम्मीदबर थी शाइरी
आप आये गीत गाकर चल दिये
—————————————–
हम समझते थे जिन्हें अपना वही
आग़ बस्ती में लगाकर चल दिये
—————————————–
अश्क उतरेंगे बगावत पर अभी
आप तो समझा बुझाकर चल दिये
—————————————–
सरहदों में बँट गये हैं हमवतन
लोग तो दीवार उठाकर चल दिये
—————————————–
नींद आँखों से हुई नाराज़ क्या
ख़्वाब सारे तिलमिलाकर चल दिये
—————————————–
कर न दें बदनाम गुलशन को कहीं
फूल ख़ारों से निभाकर चल दिये
—————————————–
राकेश दुबे “गुलशन”
07/11/2016
बरेली

2 Comments · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rakesh Dubey "Gulshan"
View all
You may also like:
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
*Author प्रणय प्रभात*
पुराने सिक्के
पुराने सिक्के
Satish Srijan
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh Manu
"माटी तेरे रंग हजार"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
लोभ मोह ईष्या 🙏
लोभ मोह ईष्या 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
Dr. Man Mohan Krishna
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
नववर्ष संदेश
नववर्ष संदेश
Shyam Sundar Subramanian
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*थियोसॉफिकल सोसायटी  से मेरा संपर्क*
*थियोसॉफिकल सोसायटी से मेरा संपर्क*
Ravi Prakash
मुद्दतों बाद लब मुस्कुराए है।
मुद्दतों बाद लब मुस्कुराए है।
Taj Mohammad
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
Loading...