Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

जहां से चले थे वहीं आ गए !

दूर तलक जाने को,
निकले थे पांव अभागे।
जो लगी ठोकर सफर में,
जहां से चले थे वहीं आ गए।

प्रतिस्पर्धा ,बहुत ज्यादा थी,
जिंदगी परीक्षा लेने आमादा थी।
जरूरत थी तेज दौड़ लगाने की,
हम दौड़े मगर घायल हो गए।

नजरें हमारी लक्ष्य पर थी,
मंजिल हमारी अक्ष पर थी।
हमने तीर संधान किया,
डोर टूटी,हम जख्मी हो गए।

थोड़े बढे, कुछ आगे बढे,
बढ़ते रहे,बढ़ते ही गये।
‘दीप’ घुटनों से चलने वाले,
पैरों पर अपने खड़े हो गए।

-जारी
-©कुलदीप मिश्रा

©सर्वाधिकार सुरक्षित
आपको ये काव्य रचना कैसी लगी कमेंट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें।आपके द्वारा की गई मेरी बोद्धिक संपदा की समीक्षा ही मुझे और भी लिखने के लिए प्रेरित करती है, प्रोत्साहित करती है।

Language: Hindi
3 Likes · 144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*Author प्रणय प्रभात*
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
माँ
माँ
The_dk_poetry
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
हैप्पी होली
हैप्पी होली
Satish Srijan
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
gurudeenverma198
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Sakshi Tripathi
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
Neerja Sharma
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...